World Suicide Prevention Day : जाया मत कीजिए अपनी जिंदगी को …

0
1
depressed teens

रात के करीब पौने नौ बजे थे कि राशि ठकरान को अचानक अपने पिता की जोर से रोने की आवाज सुनाई पड़ी।
वे कह रहे थे कि ‘राघव नहीं रहा’। उनके शब्द हमेशा के लिए राशि के दिल में चुभ गए। छह जनवरी, 2019
को राशि के छोटे भाई राघव ने आत्महत्या कर ली थी। वह मात्र 18 वर्ष का था और राशि का बेस्टफ्रेंड। अब
22 साल की इंजीनियर राशि ने आत्महत्याएं रोकने के लिए केंद्रीय गृहमंत्रालय से एक राष्ट्रीय हेल्पलाइन बनाने
की मांग की है और उनके इस ऑनलाइन अभियान को अब तक करीब एक लाख, साठ हजार लोगों का समर्थन
मिल चुका है।

राशि को जब अपने भाई के खो जाने का दर्द महसूस हुआ तो उन्हें लगा कि उनके भाई ने किसी से बात क्यों
नहीं की? क्यों नहीं उसने हमें बताया कि उसके दिमाग में क्या चल रहा है? राशि को लगा कि उस समय वह
किसी से बात करता तो शायद ऐसा कदम नहीं उठाता और इसलिए उन्हें एक हेल्पलाइन की जरूरत नजर आई।

मानसिक स्वास्थ्य पर बात किए जाने पर जोर देते हुए कहती हैं राशि, ‘इस साल जनवरी में मेरे भाई ने हमारा
साथ छोड़ दिया। यह हमारे लिए बहुत बड़ा सदमा है। उसने किसी से बात नहीं। हमें पता भी नहीं चला कि वह
ऐसा कुछ सोच रहा है। अचानक एक दिन वह चला गया। इसके बाद मुझे लगा कि मुझे कुछ करना चाहिए।

मेरे भाई जैसे कितने लोग हैं जो आत्महत्या कर लेते हैं। मुझे सदमे से निकलने में कुछ महीने लगे। लेकिन जब
मैंने रिसर्च शुरू की तो मुझे पता लगा कि इस संबंध में हमारे देश की स्थिति बहुत खराब है। कोई मेंटल हेल्थ
पर बात ही नहीं करना चाहता।’