Yogi Cabinet Expansion : जातीय और क्षेत्रीय समीकरण साधने की पूरी कोशिश ..

0
1
CABINATE

योगी के मंत्रिमंडल विस्तार के जरिये जातीय और क्षेत्रीय समीकरण साधने की कोशिश की गई है। जिन मंत्रियों
की छुट्टी की गई, उनके सजातीयों को मंत्रिमंडल में जगह देकर भरपाई की गई है। सांसद बनने वाले तीन मंत्रियों
में से दो ब्राह्मण और एक दलित हैं। मंत्रिमंडल विस्तार में इस तथ्य पर भी गौर किया गया है। योगी के 23 मंत्रियों
में से छह ब्राह्मण, दो क्षत्रिय, दो जाट, एक गुर्जर, तीन दलित, तीन वैश्य, दो कुर्मी, एक राजभर, एक गडरिया,
एक शाक्य और एक मल्लाह हैं।

राजभर की सरकार से बर्खास्तगी की भरपाई स्वतंत्र प्रभार के मंत्री अनिल राजभर को कैबिनेट मंत्री बनाकर कर
दी गई है। राज्य सरकार में गुर्जर समाज का अभी कोई मंत्री नहीं था। इस मंत्रिमंडल विस्तार में गुर्जर समाज को प्रतिनिधित्व दिया गया है। राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के लिए गुर्जर समाज से एमएलसी अशोक कटारिया को
शपथ दिलाई गई है। अनुसूचित जाति के कोटे में तीन मंत्रियों ने शपथ ली है।

योगी मंत्रिमंडल का बुधवार को पहला विस्तार हो गया। राजभवन में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने छह कैबिनेट,
छह राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और 11 राज्य मंत्रियों को शपथ दिलाई। मंत्रिमंडल में 18 नए चेहरे हैं। चार
राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) को प्रमोट कर कैबिनेट मंत्री बनाया गया है। एक राज्य मंत्री को पदोन्नत कर राज्य
मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बनाया गया है।